Masik Meena Rashifal - मीन मासिक राशिफल

Pisces Rashifal

स्वास्थ्य: मीन राशि के जातकों को इस माह इम्युनिटी की कमी और सबसे महत्वपूर्ण आत्मविश्वास की कमी के कारण स्वास्थ्य में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। मार्च मासिक राशिफल के अनुसार चतुर्थ भाव में मंगल का मिथुन राशि में होना इन जातकों को तनाव और स्वास्थ्य समस्याएं दे सकता है। इस महीने इन जातकों के लिए शनि, राहु/केतु ग्रह ठीक नहीं हैं, इसलिए इन जातकों को खांसी, पैरों और जोड़ों में दर्द की समस्या भी हो सकती है। उच्च तनाव के कारण इन जातकों को असुरक्षित भावनाओं का भी सामना करना पड़ सकता है। इन जातकों को संतुलित आहार का पालन करने की आवश्यकता है। कुल मिलाकर इन जातकों को इस माह स्वास्थ्य पर अधिक ध्यान देने की जरूरत है।

कैरियर: राहु और केतु दूसरे और आठवें भाव में होने के कारण करियर के मामले में इन जातकों का समय चुनौतीपूर्ण हो सकता है। शनि बारहवें भाव में स्थित होगा और यह करियर का ग्रह है। शनि की स्थिति के कारण जातकों को सहकर्मियों और वरिष्ठों से कुछ कठिन चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। ग्रह अनुकूल स्थिति में नहीं है जिस वजह से करियर के क्षेत्र में उतार चढ़ाव देखने को मिलेंगे। काम का अधिक दबाव के कारण नौकरी बदलने के लिए मजबूर हो सकते हैं। आपके सहकर्मी आपको परेशान करने की कोशिश कर सकते हैं और कार्य को करने में बाधा डाल सकते हैं। व्यवसाय करने वाले जातकों को भी यह महीना अत्यधिक चुनौतीपूर्ण लग सकता है और कुछ स्थितियों में नुकसान हो सकता है। उन्हें बाजार में कड़ी टक्कर मिल सकती है। तो व्यापार में लाभ या हानि की समान संभावना है।

प्रेम / विवाह / व्यक्तिगत संबंध: राहु और केतु क्रमशः दूसरे और आठवें भाव में होने के कारण जातकों के लिए कठिन समय हो सकता है। शनि भी बारहवें भाव में है। शुक्र प्रेम का ग्रह है और इस महीने के मध्य में यह अपनी अनुकूल स्थिति में नहीं होगा, क्योंकि यह अष्टम भाव के स्वामी के रूप में दूसरे भाव में स्थित होगा जिस वजह से प्रेम या विवाह में रोमांस गायब रहेगा। आमतौर पर इस राशि के जातकों को इस महीने के मध्य में सावधान रहने की जरूरत है। इन जातकों के प्रेम में रुकावटें आ सकती हैं। प्यार करने वालों के लिए यह महीने का उत्तरार्ध अधिक परेशानी भरा हो सकता है। मार्च मासिक राशिफल दर्शाता है कि जब विवाहित जीवन की बात आती है, तो इस राशि के जातकों को महीने की शुरुआत में सावधान रहने की जरूरत है क्योंकि वैवाहिक जीवन में संतुष्टि नहीं होगी। प्रेम करने वाले जातकों के लिए इस महीने की शुरुआत में विवाह करना बेहतर हो सकता है।

सलाह: • भगवान हनुमान की पूजा करें। • "ओम नमो नारायण " का प्रतिदिन 108 बार जाप करें। • मंगलवार के दिन राहु/केतु के लिए यज्ञ हवन करें।

सामान्य: ज्योतिष चक्र की 12वीं राशि मीन राशि है। इस राशि का चिह्न मछली होता है। इस राशि का स्वामी देव गुरु बृहस्पति है। मीन जातक आध्यात्मिक, निस्वार्थ और मोक्ष की ओर आत्मा की यात्रा पर ध्यान केंद्रित करते हैं। मीन जातक अपनी ही आदर्शवादी दुनिया में रहना पसंद करते हैं। मछली की ही तरह शांत मीन जातक भी बहुत कोमल और दयालु होते हैं। मीन जातकों का स्वभाव काफी सहानुभूति-पूर्ण होता है जिसके चलते लोग भी इन्हे काफी पसंद करते हैं। मीन राशि के जातक काफी धार्मिक होते हैं और इनकी सबसे ख़ास बात यही होती है कि इस राशि के लोग काफी बुद्धिजीवी भी होते हैं।। मीन राशि के लोग कलात्मक विचारों के धनी होते हैं। मीन राशि के जातक किसी भी परिस्थिति को आसानी से समझ सकने का हुनर रखते हैं और किसी भी नए माहौल में ढंग से घुल-मिल जाते हैं। मार्च मासिक राशिफल 2023 के अनुसार, बृहस्पति, राहु/केतु और शनि ग्रहों की प्रतिकूल स्थिति के कारण इस राशि के जातकों को स्वास्थ्य, धन, करियर और रिश्ते पर अधिक ध्यान देने की आवश्यकता हो सकती है। बृहस्पति पहले भाव में स्थित है, जो इस महीने इन जातकों को लाभ देगा। इसके बाद ये जातक अच्छा धन अर्जित करने में सक्षम होंगे, लेकिन साथ ही साथ अधिक खर्चे बढ़ जाएंगे। पंचम, सप्तम और नवम भाव पर स्वामी ग्रह बृहस्पति की दृष्टि आपको सफलता दिला सकती है। राहु और केतु दूसरे और आठवें भाव में स्थित होंगे जो जातकों को अधिक धन कमाने व बचाने में कठिनाई ला सकती हैं। बारहवें भाव में शनि की अपनी राशि में होने से ये जातक कठिन चुनौतियों का सामना कर सकते हैं। नौकरी में अचानक परिवर्तन या नौकरी छूटने आदि की भी संभावना पैदा हो सकती है। इन जातकों को सलाह दी जाती है कि वे अपने स्वास्थ्य पर नियंत्रण रखें। मार्च का यह महीना आपके जीवन के लिए कैसा रहेगा और परिवार, करियर, स्वास्थ्य, प्रेम आदि के क्षेत्र में आपको कैसे परिणाम मिलेंगे, यह जानने के लिए राशिफल विस्तार से पढ़ें।

वित्त: मीन राशि में जन्म लेने वाले जातकों को वित्तीय मामले में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। मुख्य ग्रह शनि बारहवें भाव में, राहु और केतु दूसरे और आठवें भाव में, बुध इस महीने के मध्य में पहले भाव में होंगे। उपरोक्त ग्रहों की स्थिति के कारण, इन जातकों को अधिक चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है और घरेलू खर्च भी बढ़ सकता है। जो लोग साझेदारी व्यवसाय कर रहे हैं, उन्हें पहले भाव में अपनी राशि में स्थित बृहस्पति और पंचम, सप्तम और नवम भाव पर उसकी दृष्टि के कारण अच्छा लाभ मिल सकता है। लेकिन इन जातकों को धीमी गति से धन लाभ होगा। इस महीने के दौरान इन जातकों के लिए पैसे बचाने की संभावना और प्रवृत्ति अधिक नहीं होगी।

पारिवारिक: शनि, बृहस्पति, राहु और केतु जैसे ग्रहों की प्रतिकूल स्थिति के कारण यह महीना जातक के पारिवारिक जीवन के लिए उतना भाग्यशाली नहीं होगा। ग्रहों की इस स्थिति के कारण परिवार में अवांछित कलह हो सकती है। बारहवें भाव में शनि, दूसरे और आठवें भाव में राहु और केतु के क्रमशः स्थित होने से परिवार में सामंजस्य नहीं रहेगा। परिवार में कम समझ के कारण अहंकार से संबंधित समस्या हो सकती है। सहयोग या समायोजन की कमी से परिवार के सदस्यों के बीच बहस हो सकती है। बृहस्पति अपनी राशि में प्रथम भाव में होने से इन जातकों के लिए पंचम भाव, सप्तम और नवम भाव पर अपनी दृष्टि से परिवार में समस्याओं के प्रभाव को कम कर सकता है।